Breaking उत्तर प्रदेश रामपुर

विधायक पति पर सरकारी गनरों ने लगाए गंभीर आरोप, बोले- गाली-गलौच कर अपने निजी काम कराते हैं

 

रामपुर। मिलक शाहबाद से भाजपा विधायक की सुरक्षा में तैनात सरकारी गनरों ने उनके पति पर अभद्रता व गाली-गलौच करने और अपने निजी काम कराने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। इतना ही नहीं, गनर बिना बताए विधायक की सुरक्षा छोड़ एसपी से शिकायत करने पहुंच गए। जिसके बाद एसपी रामपुर ने मामले की जांच के निर्देश देते हुए नए सिपाहियों को विधायक की सुरक्षा में लगाया है। दरअसल, भाजपा विधायक राजबाला की सुरक्षा में तैनात सरकारी गनर बुधवार सुबह करीब 11 बजे बिना कोई सूचना दिए विधायक आवास से चले गए। जिसकी सूचना विधायक पति ने एसपी को दी। एसपी ने उन्हें बताया कि गनर गायब नहीं हुए हैं, उनसे शिकायत करने आए थे।

गनरों का आरोप है कि विधायक पति दलीप लोधी के पीआरओ ने उनके कहने पर एक गनर की बाइक के इंडिकेटर तोड़ दिए और विधायक पति ने उन्हें गालियां देकर घर से भगा दिया। ये दोनो गनर यूपी पुलिस के कांस्टेबल हैं। जिसके बाद दोनों ने एसपी शगुन गौतम को लिखित शिकायत दी है। मामले की जांच एडिशनल एसपी को सौंपी गई है। एक गनर का नाम महेश दयाल है और दूसरे का नाम अक्षय कटारिया है। दोनों का आरोप है कि उनकी ड्यूटी विधायक के साथ है, लेकिन वह उनसे मिल भी नहीं पाते। आरोप है कि विधायक पति ही दोनों को अपने साथ रखते हैं और अपने निजी काम कराते हैं। आरोप है कि वह उनसे बिना गाली गलौच बात नहीं करते।

भाजपा विधायक ने एसपी पर लगाए आरोप

उधर, इस मामले में भाजपा विधायक राजबाला का कहना है कि इस प्रकरण में हमने शासन स्तर पर बात की है। इसकी जानकारी प्रमुख सचिव गृह को भी दी गई है। इस तरह गनरों का बिना बताए छोड़कर चले जाना नियमावली के खिलाफ है। कई बार हमने एसपी की भी शिकायत शासन स्तर पर की है, एसपी उसी के चलते राजनैतिक द्वेष से यह सब करा रहे हैं। वहीं विधायक पति दिलीप सिंह लोधी का कहना है कि माननीय विधायक जी ने शासन स्तर पर कई बार रामपुर एसपी की शिकायत की है। एसपी उसी के चलते सुरक्षाकर्मियों को मोहरा बनाकर राजनीति कर रहे हैं। जो सुरक्षाकर्मियों ने निजी कार्य कराए जाने के आरोप लगाए हैं तो वह इसका प्रमाण दें।

मामले में रामपुर एसपी शगुन गौतम का कहना है कि हमें तो नहीं पता था कि विधायक जी की तरफ से हमारी कोई भी शिकायत की गई है। हमें विधायक पति ने फोन कर सूचना दी थी कि गनर चले गए हैं। जिस पर मेरे द्वारा उन्हें बताया गया कि गनर शिकायत करने आए हैं। वहीं गनर ने जो भी आरोप लगाते हुए प्रार्थना पत्र दिया है, उसकी जांच एएसपी को सौंपी गई है। विधायक जी की सुरक्षा के लिए दूसरे पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है।