Breaking आगरा उत्तर प्रदेश लखनऊ

आगरा में परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र हुआ था लीक, कोचिंग संचालक समेत पांच गिरफ्तार

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) का प्रश्नपत्र आगरा में परीक्षा से दो घंटे पहले ही लीक हो गया था। परीक्षा के दो दिन बाद मंगलवार को पुलिस ने इस मामले में कोचिंग सेंटर संचालक सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी बबलू कुमार) ने बताया कि रविवार को हुई परीक्षा का प्रश्न पत्र प्रयागराज के गिरोह ने लीक किया था। गिरोह से आगरा के छात्र मोहित यादव को पेपर मिला। मोहित ने दूसरे छात्र कुलदीप फौजदार को दिया।

कुलदीप ने छात्र थान सिंह को दिया। यह प्रश्नपत्र व्हाट्सएप पर एक-दूसरे को दिए गए। थान सिंह ने कोचिंग के टीचर प्रभात और उसने कोचिंग सेंटर संचालक विकास शर्मा को व्हाट्सएप किया। विकास ने पहले से तैयारी कर रखी थी।

विकास ने अभ्यर्थियों के व्हाट्सएप ग्रुप में सीटीईटी का प्रश्नपत्र डाल दिया था। इसके एवज में हर अभ्यर्थी से 50 हजार रुपये लिए गए थे। आगरा में विकास का एपेक्स क्लासेस के नाम से कोचिंग सेंटर है। इसकी चार ब्रांच हैं। उसकी गिरफ्तारी राजामंडी स्थित ब्रांच से हुई है।

सॉल्वर गैंग किस तरह से हावी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरकारी नौकरियों के साथ साथ अब अन्य परीक्षाओं के पेपर भी लीक हो रहे हैं। रविवार काे 96 केंद्राें पर आयोजित केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटेट) परीक्षा का पेपर भी सॉल्वर गैंग ने लीक कर दिया जो आगरा शहर में दो घंटे पहले लीक हुआ था। पेपर लीक करने वाले रैकेट ने इसे वाट्सएप ग्रुप में अपने लोगों को शेयर कर दिया था। प्रश्न पत्र लीक होने के मामले में पुलिस ने मंगलवार को कड़ी कार्यवाही करते हुए 5 लोगो को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। बताया जाता है कि पेपर लीक करने वाले रैकेट का सरगना प्रयागराज का रहने बाला है। पुलिस अब सरगना को पकड़ने के लिए दबिशें दे रही हैं।
रविवार को आगरा समेत प्रदेश के अन्य जिलों में सीटेट परीक्षा आयोजित की गई थी। आगरा में यह परीक्षा 96 केंद्रों पर हुई थी। इसमें 50 हजार अभ्यर्थियों ने हिस्सा लिया था। परीक्षा सुबह और दोपहर दो पालियों में आयोजित की गई थी। आगरा पुलिस को परीक्षा से पहले ही सीटेट का पेपर लीक होने के सुराग मिले थे। यह पेपर रैकेट से जुड़े लोगों ने विभिन्न जिलों में अपने सदस्यों को वाट्सएप ग्रुप पर शेयर कर दिया था। ठोस सुराग मिलने के बाद पुलिस इस पेपर लीक करने वाले रैकेट से जुड़े लोगों की तलाश में जुटी थी।बांकी जो लोग पकड़े है उन्हें अब जेल भेजा रहा है ,