Breaking उत्तर प्रदेश दिल्ली रामपुर

दिल्ली से रामपुर पहुंचा किसान नवरीत का शव, परिवार ने पुलिस पर गोली मारकर हत्या करने का लगाया आरोप, परिवार के अनुसार पुलिस की वर्दी में हो सकते हैं आरएसएस और बीजेपी के वर्कर्स।

दिल्ली.पिछले दो महीने से चल रहे किसान आंदोलन ने कल गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालने की मुहिम चलाई थी लेकिन बीते दिन किसानों का ट्रैक्टर मार्च अपने रोड मैप के विपरीत होता गया जिसके चलते दिल्ली की सड़कों पर बवाल मच गया जिसमें पुलिस द्वारा रोकने की कोशिश की गई पुलिस ने बल प्रयोग किया आंसू गैस के गोले भी इस्तेमाल किए गए जिस दौरान किसान और उग्र हो गए, इस दौरान रामपुर के बिलासपुर थाना क्षेत्र के डिबडिबा गांव के निवासी किसान नवरीत की दिल्ली में मौत हो गई जिससे किसान और उग्र हो गए किसानों का आरोप है के पुलिस द्वारा मृतक नवरीत को गोली मारी गई है वहीं परिवार ने भी गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है सरकार तहकीकात करके जवाब दें के कत्ल करने वाले पुलिस थी या पुलिस की वर्दी में आरएसएस बीजेपी के वर्कर्स। फिलहाल मृतक नवरीत के शव को रामपुर लाया गया है जहां उसका पोस्टमार्टम कराया गया।

मृतक नवरीत के दादा हरदीप सिंह ने बताया पुलिस ने माथे में गोली मारी है दिल्ली की किसान आंदोलन में शामिल था नवरीत, नवरीत की उम्र 24 साल है पिछले 2 दिन पहले नवरीत किसान आंदोलन में पहुंचे थे। दादा हरदीप ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा शांतिपूर्ण आंदोलन को भड़काने की साजिश है सरकार की नवरीत की मौत का जिम्मा सरकार के माथे पर है मेरे पोते का कत्ल किया है सरकार ने इस मामले की जवाबदेही सरकार की है। उन्होंने कहा अगर ट्रैक्टर पलटने से इसकी मौत हुई है तो क्यों कोई पुलिस वाला इसे उठाकर नहीं लेकर गया इसे फर्स्ट ऐड नहीं मिला। दादा हरदीप ने कहा पुलिस वाले गोली मार कर भाग गए हम तो पुलिस वाले ही कहेंगे लेकिन जो पिछले दिनों की घटनाएं हैं के आर एस एस के लोग एक चिट्ठी भी पकड़ी गई थी जिसमें पैड यूज़ हुआ है बीजेपी का उस पैड पर जो दिशा निर्देश दिए गए बीजेपी के वर्कर्स को और आर एस एस के वर्कर को खेल सब लोग आए और आंदोलन में आकर इनके साथ मारपीट करें कुछ भी करें आपके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं होगी। मृतक के दादा हरदीप ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा हमें क्या पता वह पुलिस वाले थे या पुलिस की वर्दी में आर एस एस के लोग थे, बीजेपी के लोग थे यह तो तहकीकात करके सरकार हमें बताएं कि वह कौन लोग थे।
फिलहाल दादा हरदीप की माने तो उनके पोते नवरीत की मौत गोली लगने से हुई है आप गोली किसने चलाई कौन लोग थे फिलहाल उनका आरोप पुलिस की ओर है साथ ही जिस तरह उन्होंने पिछले दिनों मिली एक चिट्ठी का जिक्र करते हुए इस उपद्रव में आर एस एस और बीजेपी के भी शामिल होने का आरोप लगाया है उन्होंने बताया कि वह आंदोलन की शुरुआत से ही शामिल हैं वह एक राइटर भी हैं जिसके लिए उन्होंने किसान आंदोलन को जगह-जगह जाकर समझा फिलहाल वह भी राजस्थान बॉर्डर पर थे जबकि उनका पोता नवरीत गाजीपुर बॉर्डर पर प्रोटेस्ट का हिस्सा था। फिलहाल अभी उन्होंने सरकार से सिर्फ इतनी मांग की है की सरकार तहकीकात करके उनके पोते के कातिलों को सामने लाए इस संबंध में अपर पुलिस अधीक्षक संसार सिंह ने बताया एक डेड बॉडी आई है दिल्ली से यह डिब्बा का रहने वाला नवयुवक है बताया जा रहा है इसकी वहां पर मौत हुई है इसका पंचायत नामा भर दिया है पोस्टमार्टम कराया जा रहा है और जैसा भी होगा आगे कार्रवाई की जाएगी पैनल बनाकर पोस्टमार्टम किया जा रहा है जिसका वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जा रही है फिलहाल रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।