Breaking उत्तर प्रदेश नोएडा

नोएडा में दिन निकलते ही टाइम बम जैसी चीज मिलने से मची अफरा-तफरी, लोगों में दहशत

डी एन एम न्यूज़ नेटवर्क नोएडा. गणतंत्र दिवस पर किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पुलिस अलर्ट मोड पर है। शहर की सुरक्षा को लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है। इसी बीच पिछले 24 घंटे में दो जगह बम की सूचना से शहर में हड़कंप मच गया। पहला मामला नोएडा सेक्टर-27 स्थित कैलाश अस्पताल का है, जहां गुरुवार को बेसमेंट में बम होने की सूचना के बाद हड़कंप मच गया था। वहीं दूसरी घटना फेज-3 थाना क्षेत्र के छिजारसी चौराहे की है, जहां बीच सड़क पर शुक्रवार सुबह बमनुमा डिवाइस मिलने से अफरा-तफरी मच गई। पुलिस ने तुरंत सड़क के दोनों तरफ वाहनों की आवाजाही बंद कर दी। सूचना के बाद मौके पर बम निरोधक दस्ता भी पहुंचा। जांच के बाद सीपी आलोक सिंह ने बताया कि किसी शरारती तत्व ने बम जैसी दिखने वाली कोई चीज बनाने की कोशिश की थी। असल में वह कोई डेटोनेटर एक्सप्लोसन नहीं था।

26 जनवरी से पहले नोएडा में दो स्थानों पर बम की फर्जी सूचना से अफरा-तफरी का माहौल बनाने का प्रयास किया गया है। बता दें कि गुरुवार को किसी ने नोएडा सेक्टर-27 स्थित कैलाश अस्पताल के रिसेप्शन पर फोन कर बेसमेंट में बम फिट होने की जानकारी दी थी। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन की सूचना पर पुलिस को दी। सूचना के मात्र 10 मिनट के भीतर पुलिस, फायर ब्रिगेड, डॉग स्क्वायड और एन्टी बम स्कवॉयड मौके पर पहुंची। इस दौरान तमाम ओपीडी बंद कर दी गई। अस्पताल में बम की सूचना मिलने के बाद करीब 2 घंटे तक हड़कंप मचता रहा। पूरी छानबीन के बाद पुलिस ने घोषणा कि ‘ऑल इज वेल, बेसमेंट में नहीं मिला बम।’ सभी को तसल्ली हुई और पुलिस ने भी राहत महसूस की। एडीसीपी नोएडा ज़ोन-1 रणविजय सिंह ने बताया कि ये एक हाक्स कॉल थी, जो किसी ने शरारत के चलते की थी। पुलिस ने हाक्स कॉलर की तलाश कर रही है।

कैलाश अस्पताल में बम होने की फर्जी सूचना को 24 घंटे भी नहीं बीते थे कि किसी ने शुक्रवार सुबह नोएडा फेज-3 थाना क्षेत्र के छिजारसी चौराहे पर सड़क के बीचोंबीच बमनुमा वस्तु रख दी। यह देखते ही लोगों के होश उड़ गए। लोागों ने इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी। पुलिस ने तुरंत सड़क को दोनों तरफ से बंद कराते हुए वाहनों की आवाजाही रोक दी। इसी बीच सूचना मिलते ही मौके पर बम निरोधक दस्ता और पुलिस के आलाधिकारी पहुंच गए। जब जांच की गई तो वह असली बम नहीं था। मौके पर पहुंचे सीपी आलोक सिंह ने बताया कि किसी शरारती तत्व ने बम जैसी दिखने वाली कोई चीज़ बनाने की कोशिश की थी। इसमें कोई डेटोनेटर या कोई एक्सप्लोसन नहीं था।