Breaking उत्तर प्रदेश उत्तराखंड दिल्ली देश – विदेश भोपाल मध्यप्रदेश

उत्तर प्रदेश में दिनोदिन नीचे जा रहा है फुटबाल का स्तर. मुस्ताक अली

चंदौली. एक तरफ जहां देश में क्रिकेट सहित कई अन्य खेलों को काफी शोहरत मिली है । वहीं दूसरी तरफ फुटबॉल के खेल को लेकर लगातार शिथिलता बरती गई । जिसकी वजह से खासकर उत्तर प्रदेश में फुटबॉल का स्तर दिनों दिन गिरता चला गया। हालत यहां तक पहुंच गई है कि वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश में फुटबॉल जैसे का खेल का हाल बेहाल है। उत्तर प्रदेश में फुटबॉल के लगातार गिरते स्तर को लेकर फुटबॉल के कई पूर्व अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय खिलाड़ियों द्वारा चिंता व्यक्त की गई है। उत्तर प्रदेश में फुटबॉल की बेहतरी के लिए इन खिलाड़ियो द्वारा उत्तर प्रदेश में फुटबॉल संघ में विवाद को ध्यान में रखते हुए अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ से हस्तक्षेप का अनुरोध करते हुए अपील की गई है कि जब तक उत्तर प्रदेश फुटबॉल संघ का विधिवत चुनाव नहीं होता है। तब तक उत्तर प्रदेश में एक तदर्थ समिति का गठन किया जाए।जिसमे खिलाड़ियों को प्राथमिकता मिले औऱ फुटबॉल का नियमानुसार संचालन हो। दीनदयाल उपाध्याय नगर में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए इन खिलाड़ियों द्वारा यह भी अवगत कराया गया कि यदि शीघ्र ही आल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन द्वारा फुटबॉल के संचालन के लिए उचित कार्यवाई नहीं की गई तो उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री एवं वाराणसी के सांसद और प्रधानमंत्री माननीय मोदीजी को इससे अवगत कराया जाएगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए फुटबॉल के पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और लक्ष्मण अवार्डी मुश्ताक अली ने बताया कि  एक दौर था जब उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों से अच्छे-अच्छे फुटबॉलर निकलते थे और उन लोगों ने देश में ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय  खेल जगत में भी अपना सिक्का जमाया । लेकिन पिछले कुछ दिनों से देखा जा रहा है कि फुटबॉल संघ द्वारा फुटबॉल और फुटबॉल के खिलाड़ियों को लेकर कोई भी सकारात्मक पहल नहीं की जा रही है। जिसकी वजह से फुटबॉल का स्तर उत्तर प्रदेश में लगातार गिरता जा रहा है। प्रेस कांफ्रेंस में पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी तथा लक्ष्मण पुरस्कार से सम्मानित मुश्ताक़ अली के साथ पूर्व खिलाड़ी और प्रशिक्षक सतेन्द्र सिंह उपस्थित थे।